dm kya hota hai dm का फुल from क्या होता है 

dm kya hota hai dm का फुल from क्या होता है 

dm kya hota hai दोस्तों आपने डीएम के बारे में तो कहीं ना कहीं जरूर सुना होगा और आपके मन में यह सवाल जरूर आया होगा कि डीएम कौन कौन होता है और डीएमके कैसे  बनते हैं डीएम के पास कितना पावर होता है अगर आपके मन में यह सारे सवाल है और आप जानना चाहते हैं इन सभी सवालों के आंसर तो इस आर्टिकल में लास्ट तक बने रहें क्योंकि हम हमारे इस आर्टिकल में आपको डीएम से संबंधित सारी जानकारी हिंदी में उपलब्ध करायेगे

 डीएम कौन होता है

दोस्तों डीएम को हम डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के नाम से भी जानते हैं और इसको हम आईएएस अधिकारी के नाम से भी जानते हैं जो 1 जिले में एक ही डीएम होता है और इसे जिला मजिस्ट्रेट या हम डीएम कहते हैं डीएम भारत के हर जिले के लिए प्रमुख पद पर होता है भारत में लगभग अभी बात की जाए तो 718 जिले हैं और उन सभी 718 जिले में एक डीएम हर जिले में रहता है

डीएम का काम होता है जिले में जितने भी निचले स्तर पर पद के अधिकारी रहते हैं जैसे कि तहसीलदार ब्लॉक अधिकारी पटबारी  उनके काम में सहायता प्रदान करना और उन्हें सही निर्देश देना और कोई भी आईएएस अधिकारी जिसने 6 वर्ष तक आईएस की सेवा दी है और तब जाकर वह किसी डीएम बनने के योग होता है

एक जिले में एक जिला मजिस्ट्रेट या कलेक्टर मुख्य कार्याधिकारी होते हैं जो पूरे जिले का कार्यभार संभालते हैं
डीएम बनने के लिए आपको यूपीएससी द्वारा परीक्षा पास करनी होती हैं और उस परीक्षा में जो 100 रैंक पर आते हैं उन्हें डीएम बनाया जाता है और बाकी जितने भी आते हैं उन्हें आईपीएस बगैरा की कई पोस्ट होती हैं जो उन्हें दी जाती हैं

डीएम का फुल फॉर्म क्या  होता है

dm ka फुल from डिस्टिक मजिस्ट्रेट जिसे हम शार्ट में डीएम कहते हैं या इसे कलेक्टर भी कह कर आप संबोधित कर सकते हैं

डीएम की जिम्मेदारियां कौन-कौन सी होती हैं

डीएम की जिम्मेदारी की बात की जाए तो उसे पुलिस को नियंत्रित करना होता है और जिले में कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए भी डीएम को देखना होता है और एक डीएम यानी कि जिला मजिस्ट्रेट के पास जेल प्रशासन के अधिकार भी होते हैं और डीएम अपने जिले में एक रिपोर्ट कार्ड देखता है और उस रिपोर्ट में जिले को हर  स्थर  से नापा जाता है

 डीएम और कलेक्टर एक ही है

दोस्तों कुछ जगह पर डीएम और कलेक्टर एक ही होते हैं लेकिन कई जगह पर यह अलग-अलग हो सकते हैं जैसे कि उस किसी जिले में ज्यादा काम होता है तो वहां पर एक कलेक्टर को अलग से चुना जाता है और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट अलग होता है लेकिन ज्यादातर मामलों में यह  एक ही होते हैं जिसे हम जिला मजिस्ट्रेट डिप्टी कमिश्नर कहते है

 डीएम कैसे बनते हैं dm kaise bane 

आज के टाइम पर डीएम बनना हर इंसान का सपना होता है क्योंकि डीएम एक बहुत बड़ी पोस्ट होती है डीएम 1 जिले का मुख्य अधिकारी होता है जिसके अंदर एक पूरा का पूरा जिला आता है और डीएम के नीचे ही पूरे जिले की पुलिस और अधिकारी कार्य करते हैं तो आज के टाइम पर डीएम बनना सबसे ज्यादा स्टूडेंट का सपना होता है डीएम बनने के लिए आपको यूपीएससी की परीक्षा देना पड़ता है और उस यूपीएससी की परीक्षा में आपको कम से कम 100 रैंक हासिल करनी होती है इस परीक्षा को पास करने के बाद आपको आईएएस अधिकारी बनाया जाता है और आईएएस अधिकारी के बाद आपको उस जिले का डीएम बनाते हैं

dm age limit 

डीएम के लिए age लिमिट की बात की जाए तो यह हरबर्ग के लिए अलग-अलग हिसाब से तय की गई है जैसे कि इसमें कैटेगरी वाइज डिवाइड कर दी गई हैं अगर कोई व्यक्ति यूपीएससी की परीक्षा देना चाहता है तो उसकी उम्र 21 वर्ष से 32 वर्ष के बीच होना चाहिए

  • अगर वह जनरल कैटेगरी से आता है तो उसकी उम्र 21 से 30 वर्ष और ओबीसी के लिए 33 वर्ष की गई है यानी कि इसमें कम से कम उम्र 21 वर्ष है और ज्यादा से ज्यादा ओबीसी के लिए 33 वर्ष है
  • और एससी-एसटी वर्ग की बात की जाए तो इसमें इन्हें 5 साल की छूट मिलती है कि यानी की यह  35 साल की उम्र तक इस परीक्षा में भाग ले सकते हैं

डीएम बनने के लिए योग्यता

डीएम बनने के लिए आपको यूपीएससी की परीक्षा देनी होती है और यूपीएससी परीक्षा देने के लिए आपके पास ग्रेजुएशन होना चाहिए और वाह ग्रेजुएशन किसी भी सरकारी मान्यता प्राप्त कॉलेज से होना चाहिए और आपकी उम्र कम से कम 21 वर्ष ज्यादा से ज्यादा 32 वर्ष  होनी चाहिए

डीएम की पोस्ट क्या होती है?

डीएमके की बात की जाए तो dm पूरे जिले का अधिकारी होता है और उसके नीचे ही सारे जिले के सरकारी अधिकारी काम करते हैं चाहे वह पुलिस वाले हो या फिर तहसीलदार जैसे सरकारी अधिकारी या sdm या आईपीएस यह सभी  डीएम के नीचे काम करते हैं और डीएम का काम होता है समय-समय पर जिलों का निरीक्षण करना और अपने जिले की अपराध संबंधी रिपोर्ट सरकार को प्रस्तुत करना

और जब जिले में मंडलायुक्त उपस्थित नहीं होते हैं तो उस समय जिला विकास प्राधिकरण के पद पर अध्यक्ष के रूप में डीएम ही कार्य करते हैं और यह डीएमके प्रमुख कार्य होते हैं डीएम 1 जिले में सबसे बड़ी पोस्ट होती है उसके द्वारा ही पूरे जिले को सही तरह से संचालित किया जाता है

सबसे जायदा पॉपुलर डीएम 

सबसे ज्यादा पॉपुलर डीएम की लिस्ट में दीपक रावत नंबर वन पर आते हैं आपने उनके वीडियो यूट्यूब पर भी देखे होंगे और 2017 में सबसे ज्यादा सर्च किए जाने वाले सरकारी अधिकारी में दीपक रावत नंबर वन पर रहे थे और उनकी लोकप्रियता बहुत ज्यादा है और उनके काम करने का तरीका भी काफी ज्यादा पसंद किया जाता है उनका एक युटुब चैनल भी है जिस पर वीडियो अपलोड करते रहते हैं और सोशल मीडिया पर इनकी लोकप्रियता काफी ज्यादा है

dm kya hota hai आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल dm kya hota hai में आपको बताया है कि डीएम क्या होता है डीएम कैसे काम करता है और डीएम बनने के लिए क्या-क्या योग्यता होनी चाहिए अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

3 thoughts on “dm kya hota hai dm का फुल from क्या होता है ”

  1. Sir agr aap ko aapn kisi bhi area ka district minister se a koi contact karna ho to kaise karen kyunki har baat police wale ya koi aur nahin samajh paate kya kisi dastak minister se contact karne Kay ke liye koi toll free number hota hai

    Reply

Leave a Comment